Chance

    काश, इत्तेफ़ाक़ फिर दस्तक दे, पहले के मंज़र की आहत हो, ख्वाबोह के मुकल्लम होने पर, ख्वाबोह में ही रहने की सज़ा मुकर्रर हो           Chance knocks again,  A moment cherised whipers again, Send me an invitation, which moment would be chosen now, The one where the dream realised,... Continue Reading →

Blog at WordPress.com.

Up ↑